शायरी बन कर रह जाती है हर फरियाद हमारी..!
वाह तो सुनाई देती है पर आह किसी को भी नहीं…!!

Shayri ban kar rah jati hai har fariyaad hamaari
Waah to sunayi deti hai; par aah kisi ko bhi nahi.


मुझ को ढूँढ लेता है, रोज़ नए बहाने से ….
दर्द हो गया है वाक़िफ़, मेरे हर ठिकाने से।

Mujh ko dhundh leta hai, Roz naye bahane se…
Dard ho gaya hai waqif, mere har thikane se.


रात के सन्नाटे में हमने क्या-क्या धोके खाए है ….
अपना ही दिल धड़का तो हम समझे, वो आए है।

यहाँ सब खामोश हैं, कोई आवाज़ नहीं करता।
बोल के सच, कोई किसी को नाराज़ नहीं करता।

यहाँ जीना है तो नींद में भी पैर हिलाते रहिये…
वर्ना दफ़न कर देगा ये शहर मुर्दा समझकर..

Raat ke sannate mein hamne kya-kya dhoke khaye hai…
Apna hi dil dhadka to hum samze, woh aye hai.

Yahan sab khamosh hai, koi aawaaz nahi karta,
Bol ke sach, koi kisi ko naaraz nahi karta.

Yahan jeena hai to nind mein bhi pair hilate rahiye…
Warna dafan kar dega yeh sahar murda samazkar.

ये नजर-नजर की बात है कि किसे क्या तलाश है
तू हंसने को बेताब है, मुझे रोने की ही प्यास है

तुम फूल देखते हो जब, रख लेते हो उसे तोड़कर
मेरे लिए हर फूल इस कुदरत का हसीं ख्वाब है

इन चांद-तारों में है क्या ? इन हसीं नजारों में है क्या ?
उसे क्या पता जिसकी नजर पर दौलत का नकाब है

yeh nazar-nazar ki baat hai ki kise kya talaash hai
tum hasne ko betaab ho, hamein rone ki hi pyaas hai.tum phool dekhte ho jab, rakh lete ho use todkar
hamare liye har phool us kudrat ka hasi khwaab hai.in chaand-taro mein hai kya? in hasi nazaro mein hai kya?
use kya pata jiski nazar par daulat ka khwab hai.

सब कुछ है नसीब में, तेरा नाम नहीं है
दिन-रात की तन्हाई में आराम नहीं है

मैं चल पड़ा था घर से तेरी तलाश में
आगाज़ तो किया मगर अंजाम नहीं है

मेरी खताओं की सजा अब मौत ही सही
इसके सिवा तो कोई भी अरमान नहीं है

कहते हैं वो मेरी तरफ यूं उंगली उठाकर
इस शहर में इससे बड़ा बदनाम नहीं है


 sab kuch hai naseeb mein, tera naam nahi hai
din-raat ki tanhaye mein aaraam nahi hai

mein chal pada tha ghar se teri talash mein
aagaaz to kiya magar anjaam nahi hai

meri khatao ki saza ab maut hi sahi
iske shiva to koi bhi armaan nahi hai

kehte hai woh meri taraf yun ungli uthakar
is sahar mein isse bada badnaam nahi hai.


इश्क के इस नशे का एक बेवफा से रिश्ता है
इस दुनिया में सदियों से आशिकी का ये किस्सा है

दर्दे-दिल की आग को कोई सागर क्या बुझाएगा
दिलजला तो मौत के पहलू में जाकर ही बुझता है

कागज के फूलों की खूशबू से महक जाती है फीजा
तेरे इन पुराने खतों में तेरा साया दिखता है

Ishq ke iss nashe ka ekk bewafaa sa rishta hai
iss duniya mein sadiyon se aashiqui ka yeh kissa hai

dard-e-dil ki aag ko koi saagar kya buzayega
diljala to maut ke pehlu mein jakar hi buztaa hai

kaagaz ke phulon ki khusboo se mahek jati hai fiza
tere in purane khato mein tera saaya dikhta hai.

जो मुँह तक उड़ रही थी अब लिपटी है पाँव से, 
बारिश क्या हुई मिट्टी की फितरत ही बदल गई।

jo moonh tak ud rahi thi ab lipti hai paaon se,
baarish kya huyee mitti ki fitrat hi badal gayi